" मेरी इजिप्ट की महान यात्रा "

 

 

मेरा नाम रचना गुप्ता है। मैं लुधियाना में 10 साल से ध्यान कर रही हूँ।

 

इतने सालॊं की तपस्या रंग लाई और मेरा अपने परिवार के साथ इजिप्ट यात्रा कार्यक्रम बन गया। दिल्ली में हम आशा जी के घर रूके। रात को हमने सामूहिक ध्यान किया। ध्यान में हम सभी को गहन अनुभव हुआ। आशा जी ने में मिले अपने ध्यान में मिले संदेशॊं को हमसे बाँटा।

 

ध्यान ने मुझे इजिप्ट का पिरमिड दिखाई दिया और बहुत से जानवर दिखाई दिए। वह हमसे प्यार माँग रहे थे, मेरा दिल उनके लिये रो रहा था। मैंने ध्यान से उठकर एक संकल्प लिया कि मैं जानवरॊं, पक्षियॊं और जीव-जातुऒं के लिए ठॊस कदम उठाऊँगी और शाकाहार को जन-जन पहूँचाऊँगी।

 

14 अक्टूबर को हम लोग सुबह 6 बजे गीजा पिरमिड पहूँच गये। वहाँ पर दो घण्टे ध्यान का सत्र था, जब मैंने पिरमिड की दहलीज पर कदम रखा तो मरे सारे शरीर के अन्दर एक हलचल शुरू हो गई, मेरी आँखॊं से आँसू बहने शुरू हो गये, जैसे कॊई अपने घर बहुत सालॊं बाद आता है और खुशी की लहर दौड़ जाती है। पत्री सर मुख्यद्वार पर खड़े थे, उनहॊंने मुझे गले से लगा लिया, और मुझे आगे बढ़ने के लिए कहा। मैंने सीढ़ियाँ चढ़्नी शुरू कर दी, मुझे कॊई अज्ञात शक्ति खिंचती हई भीतर लेकर जा रही थी।

 

मेरे पैरों में कई पहिये लगा गये थे, मैं जल्दी-जल्दी चली जा रही थी।

 

हम "शाही कक्ष" में पहूँच गये, पत्री सर ने सब लोगॊं को ध्यान में बिठा दिया। ध्यान में बैठते ही मेरा सारा शरीर शून्य स्थिति में चला गया। मेरे अन्दर से सारे डर एक-एक करके बाहर आने शुरु हो गये।

 

मौत का डर, जानवरॊं से डर और बहुत कुछ। पिरामिड ने मुझे बहुत से उपदेश दिए जो मेरे लिये बहुत जरूरी थे। पत्री सर की बाँसूरी की मधुर धुन पिरामिड में गूँजती बहुत अच्छी लग रही थी। मुझे यह अहसास हुआ कि मैं शरीर नहीं, आत्मा हूँ। ध्यान खत्म होने तक मैं बहुत ज़ोर-ज़ोर से रो रही थी। मैं बहुत हल्का महसूस कर रही थी। जौसे कॊई वजन मेरे ऊपर से उठ गया है।

 

मुझे ऎसे लगा जैसे कि मैं किसी ताबूत में बंद थी और आज आज़ाद हो गई हूँ। पत्री सर ने " रघुपति राघव राजा राम, पतीत पावन सीता राम " भजन गाना शुरू कर दिया। उस वक्त मुझे गाँधी जी की मौज़ूदगी का अहसास हुआ।

 

मुझे पत्री जी के साथ व मौजूद सब ध्यान एक सामूहिक आत्मा है लगा जैसे कॊई भी किसी से अलग नहीं है। हम सब एक है। पिरामिड में जाना और वहाँ पर ध्यान करना हर पिरमिड मास्टर के लिये जरूरी है, वहाँ से हमारी अध्यात्मिक यात्रा और तेजी से आगे बढ़ती है।

 

15 अक्टूबर, हम लोग एलेक्सजेंडरिया शहर देखने गये, यह शहर बादशाह सिकंदर ने बनवाया था, यह शहर बहुत सुन्दर है। इतना सुन्दर शहर बनाने के बाद जब सिकंदर का आखिरी वक्त आया तो उसने अपने सिपाहियॊं से कहा जब वह मर जाये तो उसके दोनों हाथ कफन से बाहर निकाल दिये जाय ताकि दुनिया देख सके कि दुनिया पर रोज करने वाला राजा भी मौत के बाद खाली हाथ गया है।

 

हम 16 अक्टूबर, शाम को पिरमिड मास्टर रमेश जी और मधु गजाला जी के घर गये। मधु जी बहुत ही अच्छी मेजबान है। हमने वहाँ ध्यान किया। पत्री जी कि बाँसुरी से मधुर स्वर निकल रहे थे। ध्यान से उठने का दिल ही नहीं कर रहा था। मधु जी के घर से हम अपने साथ बहुत सारी खुशी और प्यार की ऊर्जा लेकर निकले।

 

 

रचना गुप्ता

लुधियाना

Go to top