" पत्री जी को प्रणाम .... ध्यान को सलाम "

 

मेरा नाम दिनेश जनार्दन है।

 

मैं मुम्बई में रहता हूँ। पिछले 12 साल से, मेरी पत्नी बीमार थी। वो बिस्तर पर ही थी। हम कई प्रकार के इलाज करवा के थक चुके थे। बहुत सारे गुरुऒं के पास भी गए पर कुछ भी सुधार नहीं हुआ।

 

3 सितम्बर, 2012, हम पत्री जी से मिले और उन्हॊंने हमें आनापानसति ध्यान सिखाया। हमें लगा कि इससे भी क्या होगा। पत्री जी ने हमें 40 दिन लगातार ध्यान अभ्यास करने को कहा। त्रिशला जी ने इसे 40 दिन किया और इन दिनॊं में उन्हॊंने अपने पूर्व जन्म और अपनी इस बीमारी का कारण और अपने कर्मॊं के बारे में जाना।

 

उनको यह पता चला कि वह एक नाग-कन्या रानी थी और वह अपने नाग माता-पिता से भी ध्यान में मिली। अपने पिता को नाग रूप में देखकर वह डर गई और कहा," आप हमारी मम्मी को मनुष्य शरीर धारण कराके बात करायें, ऎसे मुझे डर लगा रहा है।" इन्होंने ध्यान में शिवलिंग के दर्शन किये जिसमें से अनेकों साँप निकल कर इनके शरीर से लिपट गए। जब इन्हॊंने सर्पॊं से पूछा " क्या बात है? तो वो इनकॊ समुद्र के बीच में ले गये।

 

समुद्र के बीच में से एक नाग ने यह देख सर उठाया ये जोर से चिल्लाई हम सब डर गए, इन्हॊंने नाग से पूछा " आप कौन है? " तो उन्हॊंने कहा, मैं आपका पिता हूँ।" इनकी माता ने त्रिशल को बहुत प्यार किया और कहा जो तकलीफ आपने देखी है वह कॊई कर्म नहीं था। जो बाद में पत्री जी ने भी हमें बताया। इन्हॊंने स्व्यं अपने जीवन इस तरह का प्लान किया था ताकि वह आध्यात्मिक जीवन में आए और मुझे माँसहार, शराब, आदी की जो आदत थी, जॊकि मैं किसी भी तरह छॊड़ नहीं पा रहा था, इनकी तबीयत की वजह से मुझे छॊड़ना पड़ा।

 

हमारा 12 साल का समय बहुत कष्टकारी था किसी भी डाँक्टर की समझ में नहीं आ रहा था हर कॊई अलग-अलग बीमारी बता रहा था। रात को 12 बजे के बाद हमारा बैड उछलने लगता था। यह 12 साल तक बैड रूम के बाहर नहीं आई। पूरे बदन में रात को काटें जौसे चुभते थे। इनकी सभी, दिनचर्या के काम मुझे ही करवाने पड़ते थे। नहलाना, खिलाना, कपड़े पहनाना आदी। हमारा बच्चा भी बहुत डर जाता था। मैं अपनी नौकरी छॊंड़ कर अपनी गृहस्थी संभालने में लग गया था।

 

जनवरी 2013 को प्रेमनाथ सर हमें सफाला में मिले। जैसे ही हमने ध्यान कक्ष में कदम रखा तो इनकॊ चक्कर आ गया। मैंने पूछा " क्या हुआ " तो कहा कि सामने जो आदमी है उसकी आँखें से ऊर्ज निकल रही है, जो हमारी ऒर आ रही है मैं उस ऊर्जा को झेल नहीं पा रही हूँ। उस हाल में कोई आदमी नहीं था।

 

प्रेमनाथ सर ने बोला कि फॊटो से ऊर्जा रही है। वहाँ पर महावतार बाबा जी की तस्वीर थी, मैं हैरान हो गया कि ऎसा कैसे हो सकता है? जब हम वहाँ बैठकर ध्यान करने लगे तो सात घण्टे तक त्रिशला ध्यान में बैठी रही, जबकि यह 15 मिनिट से ज्यादा बैठ नहीं सकती थी। वहाँ जितने भी ध्यानी बैठे थे इन्हॊंने सबके बारे में बताया कि वो कौन से planet से आए हैं, क्या करने आए हैं। इनके सामने एक संत आए इन्हॊंने पूछा " आप कौन हैं?, तो उन्हॊंने बताया, " मैं परमहंस यॊगानंदा हूँ और आपको महावतार बाबा जी के पास ले जाने आया हूं। " जब वहाँ गए तो महावतार बाबा जी ध्यान अव्स्था में थे उनके ऊर्जा के क्षेत्र में जाते ही इनका शरीर तपने लगा।

 

इन्हॊंने बाबा जी से कहा " अत्यधिक ऊर्जा के कारण की मेरा शरीर जल रहा है। " तब उन्हॊंने कहा, " आप थॊंड़ी देर बैठॊ। " बाबा जी ने इनकॊ बताया कि " जब मैं गुरु था तो एक 11 साल का लड़का मेरे पास था, आप मेरे वही शिष्य हो, मैंने दुनिया में आपको काम करने के लिए भेजा था।

 


त्रिशला दिन में 25-30 दर्द निरॊधक दवाईयाँ लेती थी ध्यान करते-करते धीरे-धीरे सभी दवाईयाँ बंद हो गई।

 

इनकी सेहत अब सामान्य हो गई है। 40 दिन ध्यान करके इनको काफ़ी फ़र्क पड़ा। जब हमने ध्यान किया तो हमें इस ध्यान विज्ञान की गहराई का पता चला। 25 महीने की हमारी यह कहानी है।

 

ये रॊज़ 15-20 मिनिट ध्यान करती थी। प्रेमनाथ सर टेलीफॊन करके बोलते थे कि कम-से-कम एक घंटे बैठॊ, पर ईनकॊ बहुत दर्द हॊता था। एक दिन हमारे बच्चे को 103 का बुखार था, जिसकी देखभाल रखना बहुत जरूरी था।

 

यह हाँस्पिटल में एड्मिट थी बच्चे को और इनको संभालना मेरे लिए बहुत मुशिकल था। किसी ध्यानी ने पूछा, " लोग कहते हैं कि ध्यान में बहुत अनुभव आते हैं, आपका कैसा अनुभव रहा है। " मैंने उत्तर दिया, "जब यह ध्यान करती थी तब 15 मिनिट तो हमारे ऊपर बहुत गुस्सा करती थी।" मैंने प्रेमनाथ जी से पूछा " क्या है यह ? कैसा ध्यान है ? " तो उन्होंने बताया कि " इनका नाड़ी मंडल शुद्ध हो रहा है। आप ध्यान करते रहिए" फिर इनहॊंने ध्यान के बाद रोना शुरू किया तब मैंने फ़िर पूछा " ये कैसा ध्यान है? प्रमनाथ जी ने बॊला कि आप इसको 40 दिन पूरे करें, सब ठीक हो जाएगा। " मुझे समझ नहीं आ रहा था यह कैसा ध्यान है। मैंने कहा, छॊड़ दो पर 30 दिन बाद ऎसा समय आया कि यह मुस्कुराते हुए उठी मैं खुशी से फूला न समाया।

 

उसके बाद हम घर आ कर ध्यान करते रहे। सालॊं साल से मैं जो गृहस्थी संभाल रहा था, वो हमने वापिस त्रिशला को सौंप दी। 16 अगस्त को हम प्रेमनाथ सर के साथ बाबा जी के आश्रम में गए। ध्यान में बाबा जी इनकॊ अपने साथ अपनी गुफा में ले गए। इनहॊंने कहा कि " बाबा जी मुझे डर लग रहा है। बाबा जी ने पीछे मुड़कर इनकॊ अपनी लकड़ी पकड़ाई और कहा, "तुम इसे पकड़ के पीछे पीछे आ जाऒ।" वे इनको गुफा में ले गए।

 

बाबाजी ने इनकॊ शाक्ति दी और इनका Initiation किया जैसे गुरु शिष्य बनाने की लिए करता है और कहा कि " आपका काम मानवता की सेवा करना है " फिर बाबा जी इनको गणपति से आशीर्वाद दिलाने ले गए और आशीर्वाद दिलाया। एक और संत से मिलाया, फिर आकाश गंगा से मिलाया और गंगा माँ ने इनकॊ स्नान करा के शुद्ध किया। फिर बाबा जी इनको एक नीले रंग के महल में ले गए और समझाया कि आपको कैसे काम करना है और जब जरूरत पड़े तो मुझे कैसे बुलाना है।

 

किसी मास्टर ने पूछा, " अक्सर ऎसा हॊता है कि लोग ध्यान में अत्यधिक अपेक्षा से आते हैं कि सब ठीक हो जाएगा, अच्छे-अच्छे अनुभव आएंगे। आपने कहा कि शुरू में बहुत दर्द, गुस्सा आदि शुरू में ध्यान करते समय आता था, अक्सर ऎसी स्थिति में लोग ध्यान छॊड़ देते हैं। आपका कैसा अनुभव रहा कृपय बताएं?"

 

मैंने कहा, " हम कुछ भी अपेक्षा से नहीं बैठे थे। हमने सोचा 40 दिन ध्यान करते-करते हम किसी अच्छे डाँक्टर को ढूँढ़ लोंगे, लेकिन ध्यान ने ही हमें सब कुछ दे दिया।"

 

पहले मेरे मन में यह विश्वास नहीं था कि ध्यान से सब ठीक हो जाएगा। इनकॊ बहुत तकलीफ हॊती थी यह रोकर बोलती थी कि मुझे इससे बाहर निकालें। मैंने 10 साल पहले से नौकरी छॊड़ दी थी। 108 Branch मेरे Under थी। मैं इनको बोलता था कि मैं अपनी जुबान का पक्का हूँ। मैं आपको जरूर ठीक करूँगा। यह हर बार मुझे बोलती थी कि आप मुझे ठीक करॊ।

 

महावतार बाबा जी ने इनको बोला कि आप किसी दवा से नहीं बल्कि आपके पति की मोहब्बत से ठीक हुई हैं और इन्हें Paper पर पति को जींदा लवन लिखने के लिए कहा। वह पेपर हमने पत्री जी को भी दिखाया है।

 

हमारा ध्यान अनुभव बहुत सुंदर है, चमत्कारी है, आज भी हमें लगता है कि यह कैसे हो गया? परन्तु हुआ! आप सब भी ध्यान करें। ध्यान चमत्कारी है, आप भी दृढ़ विश्वास के साथ ध्यान कीजीए।


हम पत्री जी को प्रणाम करते हैं।

 

दिनेश जनार्दन

मुम्बई

Go to top